Uncategorized

10 दिसंबर : विश्व मानवाधिकार दिवस (World Human Rights Day)

दोस्तों ! जैसा कि आप सभी जानते हैं कि 10 दिसंबर को पूरे विश्वभर में “विश्व मानवाधिकार दिवस” (World Human Rights Day) मनाया जाता है। दुनिया में विभिन्न देशों की सामाजिक, सांस्कृतिक एवं मौद्रिक दशाएँ एकदम अलग है ।लोग अपनी भौतिक दृष्टि से तो आधुनिक हो गए हैं लेकिन विचारों की दृष्टि से नहीं और यही कमी हमें लोगों के अधिकारों का सम्मान करने से रोकती है ।

क्या आपको पता है आज भी स्त्रियों के प्रति सामूहिक भेद-भाव विभिन्न समाजों एवं राष्ट्रों में हो रहा है ।ऐसे में लोगों के जीने का अधिकार भी खतरे में पड़ रहा है। इसमें बाल मजदूरी, महिलाओं का यौन शोषण, जाति भेद-भाव, लूट-पाट, बलात्कार आदि बातें मानवाधिकारों के खिलाफ जाती हैं ।

अगर मानवाधिकारों के प्रति सम्मान दिखाना है तो देश की सरकार एवं वहाँ की आम जनता को भी इस संबंध में अपनी सक्रियता दिखानी होगी । पूरी दुनिया के लोग मानवाधिकारों के बारे में जागरूक हो सकें। लोग अपने व दूसरों के अधिकारों को जानें , इसके लिए हर वर्ष 10 दिसंबर को मानवाधिकार दिवस के रूप में इस दिन को मनाया जाता है ।तो आइए दोस्तों ! हम आपको विश्व मानवाधिकार दिवस के ख़ास मौके पर और भी महत्वपूर्ण चीज़ें बताते हैं जो आपके लिए बेहद जानने योग्य है।


विश्व मानवाधिकार दिवस की शुरुआत :

human rights-stayreading

आज ही के दिन वर्ष 1948 में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने सम्पूर्ण विश्व के मानव जाति के लिए उनके सम्पूर्ण अधिकारों के लिए एक घोषणा पत्र लागू किया था और तब से लेकर आज तक हर वर्ष 10 दिसम्बर को विश्व मानव अधिकार दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारत ने 12 अक्टूबर 1993 में मानवाधिकार आयोग का गठन कर इसे एक क़ानून के रूप में लागू किया था ।



इस दिन पूरे विश्व में राजनैतिक बैठकें तथा सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं । इसी दिन मानव अधिकारों के सन्दर्भ में किये गए कार्यों के लिए पूरे विश्व से पांच व्यक्तियों या संस्थाओं को उनके योगदान के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा पुरष्कृत भी किया जाता है ।

वर्तमान में भारत की दशा  :

human rights india

अगर बात अपने भारत देश कि की जाए तो हम यह देखते हैं कि हमारा संविधान भी हमें अपने मूलभूत अधिकारों से परिपूर्ण कराता है , लेकिन मानव अधिकारों के हनन में भी यह देश पीछे नहीं है । आजादी के इतने सालों बाद भी बाल मजदूरी को अभी तक पूरी तरह से ख़त्म नहीं किया जा सका ।

यह मासूम की जिंदगी के साथ ऐसा खिलवाड़ है जो खुलेआम होता चला आ रहा है l इसके अलावा गरीबी , अशिक्षा , बेरोजगारी आज भी भारत के अंदर बसी हुई है ।

होना पड़ता है भेदभाव का शिकार :

human rights day women-stayreading

आज भी हमारे देश के लोगों को जाति ,धर्म , संप्रदाय , क्षेत्र के नाम पर भेदभाव का शिकार होना पड़ता है। आज भी अपने देश में बहुत सी ऐसी जगह है जहाँ लोग खुलकर साँस भी नहीं ले पा रहे हैं । हद तो तब हो जाती है जब लोगों के के अधिकारों का हनन होने लगता है। लोग अपने अधिकार के इस्तेमाल पर भी डर महसूस करने लगते हैं ।



इस चीज़ को सुधारने के लिए देश के प्रत्येक व्यक्ति को समझने की जरूरत है जिनमे उनके कर्तव्य भी जुड़े होते हैं , उनका पालन भी अतिआवश्यक है । विश्व मानवाधिकार दिवस इन्ही मानवीय अधिकारों को बरक़रार रखने और उनके हनन के खिलाफ आवाज बुलंद करने के उद्देश्य से प्रत्येक वर्ष 10 दिसम्बर को मनाया जाता है ।

मानवाधिकार का महत्व :

human rights day hindi

इस दिवस को हम सब को मिलकर मानना चाहिए । दुनिया भर में भी इस दिन तरह तरह के कार्यक्रम होते हैं , जिनके माध्मय से मानवाधिकार का पाठ भी पढ़ाया जाता है । लेकिन एक सच यह भी है कि आज ‘मानवाधिकार’ महज एक सेमिनार, स्कूलों और कॉलेजों में होने वाले कार्यक्रमों तक सीमित रह जाता है।

आम आदमी को अभी तक मानवाधिकार की ढंग से परिभाषा तक नहीं पता। अगर सभी नागरिकों को मानवाधिकार की अहमियत पता होती तो वे विकास नहीं करने वाले विधायक या सांसद को दोबारा वोट न देते। अपनी मूलभूत सुविधाओं में बाधा बनने वाले अधिकारियों के खिलाफ डंट कर खड़े हो जाते और अपने हक की लड़ाई के लिए सत्ता तक हिला देते।

आपके पास भी है यह मानव अधिकार :

1. बोलने की आजादी |

2. स्वतंत्र रूप से वोट करने और किसी देश के सरकार में हिस्सा लेने का अधिकार ।

3. न्यायिक उपाय करने के अधिकार ।

4. समान कार्य के समान वेतन के लिए नागरिकों को आर्थिक शोषण से बचाने का अधिकार ।



5. देश के सभी लोगों के पास अपनी गरिमा और अधिकार के मामले में जन्मजात स्वतंत्रता और समानता प्राप्त है । 

6. प्रत्येक व्यक्ति को जीवन, आजादी और सुरक्षा का अधिकार है।

7. प्रत्येक व्यक्ति को नस्ल, रंग, लिंग, भाषा, धर्म, राजनीतिक या अन्य विचार, राष्ट्रीयता या समाजिक उत्पत्ति, संपत्ति, जन्म आदि जैसी बातों पर कोई भेदभाव नहीं किया जा सकता।

8. मानवाधिकार के अंतर्गत किसी भी व्यक्ति को गुलाम बनाकर नहीं रखा जा सकता ।

9. यातना, प्रताड़ना या क्रूरता से आजादी का अधिकार ।

10. कानून के सामने समानता का अधिकार ।

11. अपने बचाव में इंसाफ के लिए अदालत में जाने का अधिकार ।

12. मनमाने ढंग से की गई गिरफ्तारी, हिरासत में रखने या निर्वासन से आजादी का अधिकार ।



13. किसी स्वतंत्र आदालत के जरिए निष्पक्ष सार्वजनिक सुनवाई का अधिकार ।

14. जब तक अदालत दोषी करार नहीं दे देती उस वक्त तक निर्दोष होने का अधिकार।

15. घर, परिवार और पत्राचार में निजता का अधिकार ।

16. अपने देश में भ्रमण और किसी दूसरे देश में आने-जाने का अधिकार।

17. राष्ट्रीयता का अधिकार अर्थात प्रत्येक व्यक्ति को राष्ट्र-विशेष की नागरिकता का अधिकार है।

18. शादी करने और परिवार बढ़ाने का अधिकार और शादी के बाद पुरुष और महिला का समानता का अधिकार ।

19. संपत्ति का अधिकार अर्थात प्रत्येक व्यक्ति को अकेले और दूसरों के साथ मिलकर संपत्ति रखने का अधिकार है।

20. विचार, विवेक और किसी भी धर्म को अपनाने की स्वतंत्रता का अधिकार अर्थात प्रत्येक व्यक्ति को विचार, अंतरात्मा और धर्म की आजादी का अधिकार ।

21. विचारों की अभिव्यक्ति और जानकारी हासिल करने का अधिकार अर्थात प्रत्येक व्यक्ति को विचार और उसकी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार ।

22. सामाजिक सुरक्षा का अधिकार और आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक अधिकारों की प्राप्ति का अधिकार ।



23. छुट्टियों का अधिकार अर्थात प्रत्येक व्यक्ति को विश्राम और अवकाश का अधिकार ।

24. भोजन, आवास, कपड़े, चिकित्सीय देखभाल और सामाजिक सुरक्षा सहित अच्छे जीवन स्तर के साथ स्वयं और परिवार के जीने का अधिकार ।

25. शिक्षा का अधिकार अर्थात प्रत्येक व्यक्ति को शिक्षा का अधिकार है ।


आपको हमारी यह Post कैसी लगी. नीचे दिए गए Comment Box में जरूर लिखें. यदि आपको हमारी ये Post पसंद आए तो Please अपने Friends के साथ Share जरूर करें. और हाँ अगर आपने अब तक Free e -Mail Subscription activate नहीं किया है तो नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up जरूर करें.

Happy Reading ! 

Tags

About the author

StayReading.com

StayReading.com का Main Motive ज्यादा से ज्यादा लोगों को प्रेरित करना और आगे बढ़ने में Help करना है। Inspirational और Motivational Quotes का अनमोल संग्रह है, जो आपको प्रेरित करेगा की आप अपने जीवन को नये अंदाज में देखें। हर Quotesऔर Stories का संग्रह आपके नज़रिए को व्यापक करती है और बताती है की पूर्ण इंसान बनने का मतलब क्या होता है। यह हमे सिखाती है की हम भी अपने जीवन में ज़्यदा प्रेम, साहस और करुणा कैसे हासिल कर सकते हैं।

Add Comment

Click here to post a comment