All Posts - सभी पोस्ट्स biography - जीवनी Information and Knowledge - ज्ञान की बातें सफलता की कहानियाँ

सुन्दर पिचाई : कैसे हुए जीवन सफल ?

दोस्तों ! ऐसा कहा जाता है कि success story हमेशा आपको ये बताएगी कि आपको सफल कैसे बनना है लेकिन failure story ये बताएगी कि आप कहाँ गलती कर रहे हैं । आप ऐसा कौन सा काम कर रहे है जिससे असफलता मिलती रही है। इसलिए दोस्तों आपको failure story पढ़नी चाहिए और उससे मिली सीख को अपने जीवन में Apply करना चाहिए और उसे follow करना चाहिए।

अगर आप अपने सपनों को पूरा करना चाहते है और अपने कोशिश भी की, लेकिन आप fail हो गए तो आप हार मत मानिए कोशिश जारी रखिये क्योंकि कोशिश करने वालो की हार नहीं होती है।


चलिए आपको हम एक मकड़ी के कहानी के माध्यम से समझते हैं :

एक मकड़ी जमीन पर होती है और उसे ऊपर (अपने जाले ) की ओर जाना है। उसने ऊपर की ओर चढ़ना प्रारंभ किया लेकिन वो फिसल कर गिर जाती है। उसने दुबारा कोशिश किया लेकिन फिर से उसे हार का सामना करना पड़ा फिर भी वह हार नहीं मानी लगातार प्रयास करती रही। जब तक कि वो अपने मंज़िल तक नहीं पहुचं गयी। इसलिए दोस्तों ! अगर एक या दो बार आप हार भी जाते हैं तो रुकिए मत। अपनी प्रयास लगातार जारी रखिये और मंज़िल की तरफ आगे बढ़ते रहिए।




 चलिए ! आज हम ऐसे ही एक महान व्यक्ति के बारे में बताने वाले हैं जो अपने कमियों से लड़कर जिंदगी में आगे बढे। उनका नाम है सुन्दर पिचाई (Sundar Pichai) ! जो हाल-फ़िलहाल Google के C.E.O है।

”It’s important to follow your deams ans heart . so something that excites you” 

”Wear you failure as a badge of honour”  – Sundar pichai 

SUNDAR PICHAI


sundar pichai-staylearning

आप सबने सुन्दर पिचाई  के बारे में तो सुना ही होगा जिन्होंने भारत का नाम रौशन किया हैं, Google के C.E.O. बनकर उनके लिए इस मुकाम पर पहुंचना बहुत कठिन था, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी, कड़ी मेहनत किये और अपने लक्ष्य को प्राप्त  करने में सफल हुए।

इनका बचपन का नाम सुंदराजन पिचाई है। लेकिन अब इनको सुन्दर पिचाई के नाम से जाना जाता है। इनका जन्म 12 जुलाई 1972 तमिलनाडु(Tamilnadu) में चेन्नई(Chennai) के मंदूरैं गांव में हुआ था। इनके पिता का नाम रधुनाथ पिचाई है जो ब्रिटिश कंपनी ‘जनरल इलेक्ट्रिक कंपनी’ (जी.इ.सी.) में वरिष्ठ इलेक्ट्रिकल इंजिनियर थे। और कंपनी के इलेक्ट्रिकल पुर्जे बनाने वाली एक इकाई का प्रबंधन देखते थे। उनके माता का नाम लक्ष्मी देवी था। सुन्दर पिचाई का बचपन अशोकनगर में  बीता। बचपन से ही पढ़ाई में बहुत होशियार थे ,और क्रिकेट में रूचि थी।



शिक्षा

sundar-pichai-qualification-stayreading

सुन्दर पिचाई की शिक्षा अशोक नगर में स्थित जवाहर विद्यालय से कक्षा 10 तक हुई और फिर चेन्नई में स्थित वना वाणी स्कूल से 12वीं तक की पढ़ाई की। 12th करने के बाद इन्होने खड़गपुर से IIT में इंजीनियर की डिग्री ली। फिर इन्होने अमेरिका के स्टेनफोर्ड यूनिवर्सिटी से Science में Ph.D किए। लेकिन इनकी रूचि business managment में थी इसलिए इन्होने पेंसिलवेनिया विश्वविद्यालय से MBA किया

लक्ष्य प्राप्त करने के लिए किये इतने संघर्ष :-


sundar pichai hardwork-stayreading


आर्थिक तंगी के कारण 1995 में स्टैनफोर्ड में  पेइंग गेस्ट बन कर रहना पड़ा । पैसे बचाने के लिए उन्होंने पुरानी चीजें इस्तेमाल कीं, लेकिन उन्होंने अपने पढ़ाई से समझौता नहीं किया। वे पीएचडी करना चाहते थे लेकिन परिस्थितियां ऐसी बनीं कि उन्हें प्रोडक्ट मैनेजर Applied Materials Ink  में नौकरी करनी पड़ी। प्रसिद्ध कंपनी मैक्किंसे में बतौर कंसल्टेंट काम से करने भी उनको कोई पहचान नहीं मिली।

2004 में इन्होने Google join किया जहाँ ‘उत्पादन प्रबंधन ‘और नई खोजों से संबंधित कार्यों को सौंपा गया। Google Crome, Crome Os और Google Drive जैसे उत्पादों के विकास में महत्वपूर्णं भूमिका निभाए इसके अलावा इन्होने Google Map और Gmail के development  में भी भूमिका निभाए। सुंदर का पहला प्रोजेक्ट Product managment के इनोवेशन शाखा में गूगल के Search tool को बेहतर बनाकर दूसरे ब्रॉउजर के ट्रैफिक को गूगल पर लाना था इसी दौरान उन्होंने सुझाव दिया कि Google को अपना Browser लांच करना चाहिए। इसी एक सुझाव से वे गूगल के संस्थापक लैरी पेज की नजरों में आ गए। इसी आइडिया से उनको असली पहचान मिलनी शुरू हो गयी

May 2010 में पिचाई ने नए video कोडेक VPB के Open सोर्सिंग का एलान किया इस video ने एक नया Formal WEBM प्रस्तुत किया। March 2013 में Android भी सुन्दर पिचाई के अंतर्गत आने वाले product में शामिल हैं। इससे पहले Android का कार्य और विकास एंडी रुबिन में प्रबंध हो रहा था। अपनी प्रगति के कारण वो Google के संस्थापक लैरी पेज की नजरों में आने लग गए इतनी कोशिशों के बाद final उन्हें 10 August 2015 को Google के CEO सुन्दर पिचाई को बनाया गया।


सुन्दर पिचाई ने IIT खड़गपुर के College की mate अंजलि पिचाई के साथ विवाह किया। सुन्दर पिचाई के दो बेटियां है एक का नाम किरण है और दूसरी बेटी का नाम काव्या है।

wife of sundar pichai

”As a leader , it’s important to not just see your own success, but focus on the success of others.”                      

 – SUNDAR PICHAI 


यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी ID है : blog.stayreading@gmail.com ! article पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे और आपको हमारी यह Post कैसी लगी. नीचे दिए गए Comment Box में जरूर लिखें. यदि आपको हमारी ये Post पसंद आए तो Please अपने Friends के साथ Share जरूर करें. और हाँ अगर आपने अब तक Free e -Mail Subscription activate नहीं किया है तो नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up जरूर करें.

Happy Reading !

About the author

StayReading.com

StayReading.com का Main Motive ज्यादा से ज्यादा लोगों को प्रेरित करना और आगे बढ़ने में Help करना है। Inspirational और Motivational Quotes का अनमोल संग्रह है, जो आपको प्रेरित करेगा की आप अपने जीवन को नये अंदाज में देखें। हर Quotesऔर Stories का संग्रह आपके नज़रिए को व्यापक करती है और बताती है की पूर्ण इंसान बनने का मतलब क्या होता है। यह हमे सिखाती है की हम भी अपने जीवन में ज़्यदा प्रेम, साहस और करुणा कैसे हासिल कर सकते हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

Sponsors links

FREE Email Subscription