Amazing Facts

साबुन का अविष्कार कैसे हुआ !!!

साबुन से तो आप सभी परिचित ही  हैं. जिसका उपयोग प्रतिदिन हम नहाने, कपड़े धोने इत्यादि के लिए करते हैं. दुकानों में हर किस्म का साबुन मिलता है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि साबुन का आविष्कार कब और कैसे हुआ? तो आइए हम आपको इसकी रोचक कहानी बताते हैं.

ऐसा कहा जाता है कि लगभग 3000 वर्ष पहले रोम के निवासी अपने इष्ट देवता को प्रसन्न करने के लिए (जो सैपोहिग नामक पहाड़ी पर स्थित है) के सामने जानवरों की बली चढ़ाते थे. विचित्र बात तो यह थी कि वहां पहले से ही एक अग्निकुंड जलता रहता था. यह लोग जानवरों को मारने के बाद उनके खून को अग्निकुंड की राख के साथ मिलाकर देवता को अर्पित करते थे. बाद में यह मिश्रण (खून और राख) बहकर टाइगर नदी के तट पर जमा हो जाता था. उस तट पर प्रतिदिन धोबी कपड़े धोने के लिए आते थे. एक दिन एक धोबी ने सोचा क्यों न इस मिश्रण से कपड़े धो कर देखें. फिर क्या देखा कि कपड़े एकदम साफ और चमकदार हो गए हैं. इसके बाद तो सभी धोबी उस मिश्रण से ही कपड़े धोने लगे देखते ही देखते यह बात चारों तरफ फैल गई. कहते हैं कि इसी के चलते मिट्टी से साबुन का अविष्कार हुआ और आज विश्व में व्यापक तौर पर अनेक रंगों में साबुन देखने को मिलते हैं जो काफी खुशबूदार भी है.

Read: Karoly (केरोली) Takacs Real Life Inspirational Hindi Story

Read: माँ की आखिरी चिट्टी – Heart Touching Hindi Story


आपको हमारी यह Post कैसी लगी.  नीचे दिए गए Comment  Box में जरूर लिखें. यदि आपको हमारी ये Post  पसंद आए तो Please अपने Friends के साथ Share जरूर करें. और हाँ  अगर आपने अब तक Free e -Mail Subscription activate नहीं किया है तो नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up जरूर करें.

About the author

StayReading.com

StayReading.com का Main Motive ज्यादा से ज्यादा लोगों को प्रेरित करना और आगे बढ़ने में Help करना है। Inspirational और Motivational Quotes का अनमोल संग्रह है, जो आपको प्रेरित करेगा की आप अपने जीवन को नये अंदाज में देखें। हर Quotesऔर Stories का संग्रह आपके नज़रिए को व्यापक करती है और बताती है की पूर्ण इंसान बनने का मतलब क्या होता है। यह हमे सिखाती है की हम भी अपने जीवन में ज़्यदा प्रेम, साहस और करुणा कैसे हासिल कर सकते हैं।

Add Comment

Click here to post a comment