Hindi Quotes

महर्षि वाल्मीकि के 38 अनमोल वचन !

भारतीय इतिहास में आदिकवि महर्षि वाल्मीकि जी की जीवनी हमें दृढ़संकल्प और मजबूत इच्छाशक्ति प्राप्त करने की प्रेरणा देती है। कभी रत्नाकर के नाम से मशहूर वाल्मीकि जी ने अपने संकल्प से खुद को आदिकवि के स्थान तक पहुंचाया और “वाल्मीकि रामायण” के रचयिता भी बने। तो दोस्तों ! इंसान की अगर इच्छा शक्ति उसके साथ हो तो वह कोई भी काम बड़े आराम से कर सकता है और आज हम इसी महान आदिकवि द्वारा कहे गए अनमोल विचारों को पेश करने जा रहे हैं , जो आपके लिए प्रेरणादायक रहेंगे। 


1. इस दुनिया में दुर्लभ कुछ भी नहीं है, अगर उत्साह का साथ न छोड़ा जाए।

2. जननी और जन्मभूमि स्वर्ग से भी बढ़कर है |

3. दुख और विपदा जीवन के दो ऐसे मेहमान हैं, जो बिना निमंत्रण के ही आते हैं।

4. प्रण को तोड़ने से पुण्य नष्ट हो जाते हैँ |

5. किसी भी मनुष्य की इच्छाशक्ति अगर उसके साथ हो तो वह कोई भी काम बड़े आसानी से कर सकता है।

6. इच्छाशक्ति और दृढ़संकल्प मनुष्य को रंक से राजा बना देती है।



7. संसार में ऐसे लोग थोड़े ही होते हैं, जो कठोर किंतु हित की बात कहने वाले होते है।

8.  दूसरों की आलोचना की कभी चिंता नहीं करनी चाहिए !

9. दुखी लोग कौन सा पाप नहीँ करते |

10. माता-पिता की सेवा और उनकी आज्ञा का पालन जैसा दूसरा धर्म कोई भी नहीं है।

11. असत्य के समान पातकपुंज नहीँ है समस्त सत्यकर्मो का आधार सत्य ही है |

12. अहंकार मनुष्य का बहुत बड़ा दुश्मन है। वह सोने के हार को भी मिट्टी का बना देता है।

13. प्रियजनो से भी मोहवश अत्यधिक प्रेम करने से यश चला जाता है |

14. अति संघर्ष से चंदन मेँ भी आग प्रकट हो जाती है उसी प्रकार बहुत अवज्ञा किए जाने पर ज्ञानी के भी हृदय मेँ क्रोध उपज जाता है |



15. संत दूसरोँ को दुख से बचाने के लिए कष्ट रहते हैँ दुष्ट लोग दूसरोँ को दुख मेँ डालने के लिए |

16. नीचे कि नमृता अत्यंत दुख दाई है अंकुश, धनुष ,साप और बिल्ली झुककर वार करते हैँ |

17. उत्साह से बढ़कर दूसरा कोई बल नहीँ है |

18. जीवन में सदैव सुख ही मिले यह बहुत दुर्लभ है।

19. मनुष्य का आचरण ही बतलाता है कि वह कुलीन है या अकुलीन, वीर है या कायर अथवा पवित्र है या अपवित्र |

20. होनी के प्रति दुःख मनाना कायरता और अज्ञान है|

21. दुखी व्यक्ति प्रत्येक पाप कर सकता है |



22. पराये धन का अपहरण, पर स्त्री के साथ संसर्ग, सुहृदों पर अतिशंका- ये तीनों दोष विनाशकारी है |

23. पुरुषार्थ किये बिना भाग्य का निर्माण नहीं हो सकता|

24. किसी के साथ अत्यंत प्रेम न करो और प्रेम का सवर्था अभाव भी न होने दो, क्योंकि ये दोनों ही महान दोष है, अत: मध्यम स्थिति पर ही दृष्टि रखो|

25. भाग्य की कल्पना मूढ़ लोग ही करते है और भाग्य पर निर्भर होकर वे अपना नाश कर लेते है|

26. मित्र बनाना सरल है, मैत्री पालन दुष्कर है| चितों की अस्थिरता के कारण अल्प मतभेद होने पर भी मित्रता टूट जाती है |

27. उत्साह, सामर्थ्य और मन में हिम्मत न हारना- ये कार्य की सिद्धि कराने वाले गुण कहे गये है|

28. सारे पुण्यों और सद्गुणों की जड़ सत्य है |

29. सेवा से शत्रु भी मित्र हो जाता है |

30. परमात्मा ने जो कुछ तुमको दिया है, तुमको चाहिए कि उसके लिए परमात्मा के प्रति अपनी कृतज्ञता प्रकट करो | इस विषय में तुम्हे कृतघ्न नहीं होना चाहिए |

31. नारी के लिए वास्तव में उसका पति ही सम्पूर्ण आभूषण है | उससे पृथक रहकर वह कितनी भी सुंदर क्यों न हो सुशोभित नहीं होती |

32. सदा सुख ही सुख दुर्लभ है |

33. स्त्री या पुरुष के लिए क्षमा ही अलंकार है |

34. राजा को आदर्श व सच्चरित होना चाहिए क्योंकि वह प्रजापालक कहलाता है!

35. क्रोध ही व्यक्ति के समस्त सद्गुणों का नाश करता है. इसलिए क्रोध का त्याग करो !



36. संतोष नन्दनवन है तथा शांति कामधेनु है. इस पर विचार करो और शांति के लिए श्रम करो !

37. सहयोग और समन्वय की सदैव जीत होती है !

38. अहंकार और कुटिलता का परित्याग करना चाहिए !

महर्षि वाल्मीकि जी ने रामायण की रचना करके हर किसी को सद्मार्ग पर चलने की राह दिखाई। पावन ग्रंथ रामायण में प्रेम, त्याग, तप व यश की भावनाओं को महत्व दिया गया है।


आपको हमारी यह Post कैसी लगी. नीचे दिए गए Comment Box में जरूर लिखें. यदि आपको हमारी ये Post पसंद आए तो Please अपने Friends के साथ Share जरूर करें. और हाँ अगर आपने अब तक Free e -Mail Subscription activate नहीं किया है तो नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up जरूर करें.

Happy Reading !

About the author

StayReading.com

StayReading.com का Main Motive ज्यादा से ज्यादा लोगों को प्रेरित करना और आगे बढ़ने में Help करना है। Inspirational और Motivational Quotes का अनमोल संग्रह है, जो आपको प्रेरित करेगा की आप अपने जीवन को नये अंदाज में देखें। हर Quotesऔर Stories का संग्रह आपके नज़रिए को व्यापक करती है और बताती है की पूर्ण इंसान बनने का मतलब क्या होता है। यह हमे सिखाती है की हम भी अपने जीवन में ज़्यदा प्रेम, साहस और करुणा कैसे हासिल कर सकते हैं।

Add Comment

Click here to post a comment