All Posts - सभी पोस्ट्स Heart Touching Stories - कहानी जो दिल को छु जाये Inspiring Stories - प्रेरक कहानियाँ Secret of Toppers - पढाई में TOPPER कैसे बने ? Self Improvement Success Stories अमीर और मशहूर लोगों की सफलता के रहस्य

रिक्शेवाले का बेटा बना IAS Officer !!!

आज  मैं  एक  ऐसे व्यक्ति की  कहानी  बताने जा  रहा  हूँ  जो  हज़ारो  दिक्कतों  के  बावजूद  अपने  दृढ  निश्चय  और  मेहनत  के  बल  पर  IAS officer बनने में सक्षम हो सका क्योंकि प्रतिवर्ष लाखों की संख्या में परीक्षार्थी IAS officer बनने  की  चाह  में  Civil Services के exam में  बैठते  हैं  पर  इनमे  से 0.025 % से  भी  कम  लोग  IAS officer बन  पाते हैं ।इससे आप आसानी से  अंदाज़ा  लगा  सकते  हैं  कि  IAS exam Clear करना कितना  मुश्किल है और जो  कोई  भी  इस  exam को  clear करता  है  उसके  लिए  समाज में  एक  अलग  ही छवि बन  जाती  है और  यह सब करने  वाला  किसी  बहुत  ही  साधारण  Family background से  हो  तो  उसके  लिए  तो मन  में  और  भी  respect आना  आवश्यक है।


मैं बात कर रहा हूँ “गोविन्द जायसवाल” की ! जिनके पिता  एक  रिक्शा -चालक  थे। बनारस  की तंग गलियों  में एक छोटे से किराए  के  कमरे  में  रहने वाला गोविन्द  का  परिवार  बड़ी  मुश्किल  से  अपना  गुज़ारा  कर  पाता  था । ऊपर से  वह  कमरा  ऐसी  जगह  था  जहाँ  शोर -गुल हमेशा  रहता था। अगल-बगल में  मौजूद  फक्ट्रियों  और जनरेटरों  के आवाज़ से एक  दूसरे  से आपस में बात  करना  भी  मुश्किल हो जाता  था। उसी थोड़ी सी जगह में नहाने -धोने  से  लेकर  खाने -पीने  तक  का  सारा  काम उनके परिवार को करना पड़ता था । ऐसी  परिस्थिति  में  भी  गोविन्द  ने  शुरू  से  पढाई  पर  पूरा  ध्यान  दिया।



अपनी  पढाई  और  किताबों  का  खर्चा  निकालने  के  लिए  वो  आठवीं कक्षा से  ही  tuition पढ़ाने  लगे । बचपन  से  ही उन्हें उनकी पढाई  लिखाई  पर  लोगों  के  ताने  सुनने पड़ते  थे। लोग कहते थे कि “चाहे  तुम  जितना  भी पढ़ लो  चलाना  तो तुम्हे रिक्शा  ही  है ”! इसके बावजूद गोविन्द  पढाई  में  लगे रहे । कभी कभी तो वह आसपास  के  शोर  से  छुटकारा पाने  के लिए अपने कानो  में  रुई लगा  लेते । रात में  पढाई के लिए उन्हें अक्सर मोमबत्ती इत्यादि का सहारा लेना पड़ता क्योंकि उनके इलाके में बिजली कटौती ज्यादा होती थी ।

गोविन्द शुरू  से ही  school topper रहे और Science subjects में  काफी  तेज भी  थे  इसलिए  Class 12 के  बाद  कई  लोगों  ने  उन्हें  Engineering करने  की  सलाह  दी । लेकिन  जब  पता  चला  कि उसकी  Application form fees 500 रुपये  है  तो  उन्होंने  ये  idea छोड़कर  BHU से  अपनी  graduation करने  लगे जहाँ  सिर्फ  10 रूपये की Formal fees थी ।

गोविन्द अपने IAS officer बनने  के  सपने  को  साकार  करने  के  लिए  Delhi आ  गए  लेकिन  उसी  दौरान  उनके  पिता  के  पैरों  में  एक  गहरा  घाव  हो  गया  और जिसके चलते वह बेरोजगार  हो  गए । ऐसे  में  परिवार  के पास  अपनी  एक  मात्र  संपत्ति  में एक  छोटी  सी  जमीन  को  30,000 रुपये  में  बेच  दिया  ताकि  Govind अपनी  coaching पूरी  कर  सके । साल 2006 में मात्र 24 की  उम्र  में ही  उन्होंने  पहले attempt में 474 candidates में  48 वाँ  स्थान  लाकर  उन्होंने  अपनी  और  अपने  परिवार  की  ज़िन्दगी  को  हमेशा के लिए बदल दिया ।

उनका कहना  है था कि – “इस  दुनिया  में  कोई  भी  subject कठिन  नहीं  है ! बस आपके  अंदर उसे crack करने  की  will-power होनी  चाहिए” !!! मेरी  हिंदी  में  पढने  और  व्यक्त  करने  की  क्षमता  ने  मुझे  इस मुकाम पर पहुँचाया । अगर  आप  अपने  विचार  व्यक्त  करने  में  confident हैं  तो  कोई  भी  आपको  सफल  होने  से  नहीं  रोक  सकता । भाषा  सीखना  कोई  बड़ी  बात  नहीं होती बस खुद  पर  भरोसा  होना चाहिए ।



Moral:- गोविन्द की  सफलता हमें यह सिखाती  है कि  यदि  कड़ी मेहनत   से  कोई  अपने  लक्ष्य -प्राप्ति  में  जुट  जाए  तो  उसे  सफलता  ज़रूर  मिलती  है ।


आपको हमारी यह Post कैसी लगी. नीचे दिए गए Comment Box में जरूर लिखें. यदि आपको हमारी ये Post पसंद आए तो Please अपने Friends के साथ Share जरूर करें. और हाँ अगर आपने अब तक Free e -Mail Subscription activate नहीं किया है तो नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up जरूर करें.

Happy Reading !

About the author

StayReading.com

StayReading.com का Main Motive ज्यादा से ज्यादा लोगों को प्रेरित करना और आगे बढ़ने में Help करना है। Inspirational और Motivational Quotes का अनमोल संग्रह है, जो आपको प्रेरित करेगा की आप अपने जीवन को नये अंदाज में देखें। हर Quotesऔर Stories का संग्रह आपके नज़रिए को व्यापक करती है और बताती है की पूर्ण इंसान बनने का मतलब क्या होता है। यह हमे सिखाती है की हम भी अपने जीवन में ज़्यदा प्रेम, साहस और करुणा कैसे हासिल कर सकते हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

Sponsors links

FREE Email Subscription