All Posts - सभी पोस्ट्स Career - कैरियर Information and Knowledge - ज्ञान की बातें Study Tips

E-Accounting कैसे करें !

भारत में E-Accounting की बहुत भरी मात्रा में मांग है। सभी छोटे से बड़े company में एक न एक कुशल accountant की जरुरत जरूर बनी रहती है जो accounting software के माध्यम से company के लेन-देन को record रख सकें। आजकल सरकार सभी tax return को online जमा करनी पड़ती है इसलिए आपको E-Accountant के साथ साथ E-Accounting भी आनी चाहिए जिसके सहायता से आप GST, TDS, Income Tax Etc. की return online जमा करवा सकें।

अगर आप Commerce background से हैं तो ये कोर्स आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित होगा। अगर आप चाहते है  कि 12th के बाद आपकी एक अच्छी सी नौकरी लग जाएगी तो ये कोर्स आपके लिए best होगा। इससे आप अपने करियर को बेहतर बना सकते है। आजकल accountant की बहुत Demand  है

लेकिन आपको  accounting line में जाने के लिए E-Accounting आनी चाहिए। अगर आपको E-Accounting नहीं आती है तो आप कंपनी के accounts को maintain नहीं कर सकते है। ये accounting का जड़ है। अगर आपको E-Accounting की knowledge नहीं है, तो आप Accountant नहीं बन सकते है।  जरुरी है कि आपको accounting software के बारे में जानकारी हो। जैसे : Tally Erp.9


E-Accounting क्या है ?

E-Accounting  मतलब Internet accounting । सारे व्यवसायिक Transaction को computer  में  record  करना । ये Accounting को आसान बनाने में काफी हद तक सहायक है। जिस काम को पहले करने में महीनों लग जाते थे अब वह कुछ दिनों में हो जाते है।

पहले  Accounts को record करने के लिए बहुत सारे register और Pen का उपयोग होता था। लेकिन अब सारा का सारा काम एक computer में हो जाता है । अगर आपको E-Accounting  आता है तो आप एक professional  Accountant बन सकते है।




नौकरी की नहीं होगी कमी :

E-Accounting  में नौकरियों की कोई कमी नहीं है। बस कोर्स करने और diploma लेने के लिए आपने जो Institute join किया है वह Certified होना चाहिए। E-Accounting एक अच्छा करियर विकल्प है। आजकल युवाओ में बहुत प्रचलित है। हर कंपनी को एक न एक accountant required है। अगर आप इसमें expert हो जाएंगे तो आपकी इसमें आप एक well qualified accountant बन सकते है।

यह भी पढ़ें :

कौन कर सकता है E-Accounting ?

E-Accounting से को लेकर बहुत सारे लोग अभी भी भ्रम में है कि ये कोर्स या ये job सिर्फ commerce वाले कर सकते है लेकिन ऐसा नहीं है आप किसी भी stream से हो, आप यह कोर्स कर सकते है बस आपको accounting की information होनी चाहिए । अगर आपको Accountant बनना है या E-Accounting में करियर बनाना है । तो आपको computer की basic knowledge होनी चाहिए। आपको पता होना चाहिए की कप्यूटर के सिस्टम को कैसे operate करना है।

और जरुरी बात यह है कि है कि आपको accounting के Golden Rules के बारे में पता होना चाहिए। आपको पता होना चाहिए कि कब क्या करना है ? किसे कब Debit करना है किसे कब Credit करना है। accounting की journal entry आनी चाहिए।


यह भी पढ़ें :

Software of Accounting :

  • Tally.ERP 9
  • Vyapar – Accounting & Invoicing
  • HDPOS Smart Accounts and Billing
  • MARG ERP 9+ Accounting Software
  • MProfit for Accounting
  • Book Keeper – Accounting & Invoicing
  • Busy Accounting Software
  • NetSuite ERP
  • Saral Accounts
  • LOGIC Account

यह भी पढ़ें :

करियर को कैसे उड़ान देगा IT सेक्टर !

E-Accounting में किन-किन मुख्य विषयों पर focus किया जाता है :

Tally Erp. 9 :

यह एक ऐसा Software  है जिसके अंदर हम सारे कंपनी के Business Data को एक सुरक्षित Software में उस सभी कामों के खाका तैयार कर और एक लेखा-जोखा को सही तरीके से record करना ही Tally कहलाता है। इस में  हम Company Creating, Ledger Creating, Voucher Creating, Group Creating और Sub Group Creating का काम सफलता पूर्वक करते है ।

Following topic importance in tally Erp. 9 :-

  • job costing
  • accounting functions
  • managing inventory items
  • Managing payroll
  • Filing tax return,
  • managing profit and loss statement,
  • preparing a balance sheet,
  • TDS forms,
  • Trial balance, and
  • cash-flow report .

Tax Return :

E-Accounting में tax return और E-filing करना सिखाते है। इसमें आप बिना कही जाए और बिना किसी भागा-दौड़ी के आप computer के माध्यम tax भरना सीख जाते है। इसमें आपको tax calculate करना सिखाते है ।

GST (Goods & Services Tax ) :

जब से GST आया है accounting field में E-Accounting की importance बढ़ गई है। इसमें करियर के chance बहुत बढ़ गया है। GST की knowledge हर  किसी को नहीं है , इसलिए E-Accounting के माध्यम से GST सिखाया जा रहा है।

Important Information :

    • Course Duration : 12 to 15 Month : ।
    • Eligibility (योग्यता ) : 12th पास।
    • Career after E-Accounting : Accountant, chief Accountant, Administrator Executive, Accounts Executive, Review Executive, Money related Analyst, Account Manager, Senior Accountant, Finance manager, Assistant Accounting, Finance and Accounting Consultant- Senior and Fund Accounting Analyst.
    • Expected Salary : Rs. 4,00,000 से  Rs.12,00,000 सालाना ।

अगर आप चाहते है कि आप एक well qualified accountant बनें तो आपको E-Accounting के साथ साथ Ms-Excel और advance Excel भी आना चाहिए।  


RELATED POSTS :


यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी ID है : blog.stayreading@gmail.com ! article पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे और आपको हमारी यह Post कैसी लगी. नीचे दिए गए Comment Box में जरूर लिखें. यदि आपको हमारी ये Post पसंद आए तो Please अपने Friends के साथ Share जरूर करें. और हाँ अगर आपने अब तक Free e -Mail Subscription activate नहीं किया है तो नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up जरूर करें.

Happy Reading !

About the author

StayReading.com

StayReading.com का Main Motive ज्यादा से ज्यादा लोगों को प्रेरित करना और आगे बढ़ने में Help करना है। Inspirational और Motivational Quotes का अनमोल संग्रह है, जो आपको प्रेरित करेगा की आप अपने जीवन को नये अंदाज में देखें। हर Quotesऔर Stories का संग्रह आपके नज़रिए को व्यापक करती है और बताती है की पूर्ण इंसान बनने का मतलब क्या होता है। यह हमे सिखाती है की हम भी अपने जीवन में ज़्यदा प्रेम, साहस और करुणा कैसे हासिल कर सकते हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

Sponsors links

FREE Email Subscription