All Posts - सभी पोस्ट्स Information and Knowledge - ज्ञान की बातें Inspiring Stories - प्रेरक कहानियाँ Success Stories

महान संगीतकार “A.R Rehman” की सफलता भरी जीवनी !

दोस्तों ! ए. आर रहमान रहमान हिन्दी फिल्मों के प्रसिद्ध संगीतकार हैं। इनका पूरा नाम “अल्लाह रक्खा रहमान” है । जन्म के समय रहमान का नाम “ए. एस. दिलीपकुमार मुदलियार” रखा गया था, जिसे बाद में बदलकर वे ए. आर. रहमान बनें और आपको पता है इस नाम के पीछे भी कहानी जुडी हुई है , जो हम आपको आगे बताने वाले हैं।

ए. आर रहमान का जन्म 6 जनवरी 1967 को चेन्नई में हुआ था । रहमान ने अपनी मातृभाषा तमिऴ के अलावा हिंदी और कई अन्य भाषाओं की फिल्मों में भी संगीत दिया है। टाइम्स पत्रिका ने उन्हें “मोजार्ट ऑफ मद्रास” की उपाधि दे रखी है । रहमान “गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड” से सम्मानित होने वाले पहले भारतीय हैं।

ए. आर. रहमान ऐसे पहले भारतीय हैं जिन्हें ब्रिटिश भारतीय फिल्म “स्लम डॉग मिलेनियर” में उनके संगीत के लिए तीन ऑस्कर नामांकन हासिल हुआ है। इसी फिल्म के गीत ‘जय हो’ के लिए सर्वश्रेष्ठ साउंडट्रैक कंपाइलेशन और सर्वश्रेष्ठ फिल्मी गीत की श्रेणी में दो ग्रैमी पुरस्कार से भी सम्मानित हो चुके हैं ।


वर्तमान पूरा नाम : अल्लाह रक्खा रहमान ।


जन्म : 6 जनवरी 1967 ।


जन्मस्थान : चेन्नई , तमिलनाडू ।


पत्नी : सायरा बानू ।


पिता : आर.के. शेखर ।


माता : करीमा बेग़म ।


ए. आर रहमान का प्रारंभिक जीवन :

rehman-stayreading

रहमान का जन्म मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था। रहमान को संगीत अपने पिता से विरासत में मिली । उनके पिता आर.के. शेखर, तमिल और मलयालम फिल्मो के परिचालक और निर्माता थे। रहमान जब छोटे थे , तभी से ही अपने पिता की किसी न किसी चीज़ में हमेशा सहायता करते थे। जब रहमान केवल 9 साल के थे, तभी उनके पिता की मृत्यु हो गयी थी, वे अपने पिता के वाद्ययंत्रों को किराये पर देकर अपना घर चलाते थे।



आगे चलकर रहमान ने रहमान अपने दोस्तों के साथ मिलकर चेन्नई में ही “रॉक ग्रुप नेमसिस एवेन्यु” की स्थापना की थी। रहमान कीबोर्ड, पियानो, सिंथेसाइज़र, हारमोनियम और गिटार के महान ज्ञाता कहलाने लगे। विशेष तौर पर तो इन्होने सिंथेसाइज़र में महारथ हासिल हो रखी थी।

rahman singer-stayreading

रहमान ने संगीत की शिक्षा का प्रशिक्षण “मास्टर धनराज जी” से लेने लगे और मात्र 11 साल की ही आयु में वे अपने पिता के करीबी दोस्त “एम.के. अर्जुन” के साथ मलयालम ऑर्केस्ट्रा बजाने लगे। बाद में उन्होंने कुछ दुसरे संगीतकारों के साथ काम करना शुरू कर दिया।

rahman jakir hussain-stayreading

इसके बाद इन्होने जाकिर हुसैन, कुन्नाकुदी वैद्यनाथन और एल.शंकर के साथ विश्व स्तर पर अपनी कला का प्रदर्शन भी किया। उनके हुनर को देखते हुए उन्हें ट्रिनिटी कॉलेज, लन्दन के संगीत विभाग से शिष्यवृत्ति भी मिलती थी। चेन्नई में पढते हुए, रहमान अपने स्कूल से ही वेस्टर्न क्लासिकल संगीत में ग्रेजुएट हो गए।



नाम के पीछे की कहानी :

a.r rahman-stayreading

जन्म के समय उनका नाम “ए.एस दिलीप कुमार” था। ऐसा कहा जाता है कि वर्ष 1989 में रहमान की छोटी बहन काफी बीमार पड़ गई थी। सभी डॉक्टरों ने कह दिया था कि इनके बचने की उम्मीद कम है। रहमान ने अपनी छोटी बहन के लिए मस्जिदों में दुआयें मांगी और जल्द ही उनकी दुआ रंग लाई और उनकी बहन चमत्कारिक रूप से ठीक हो गई। इस चमत्कार को देख रहमान ने इस्लाम कबूल कर लिया।

spirit of music book-stayreading

वही दूसरी तरफ रहमान की बायोग्राफी ‘द स्पिरिट ऑफ म्यूजिक’ में यह बताया गया है कि एक ज्योतिषी के कहने पर उन्होंने अपना नाम बदला। रहमान ने एक इंटरव्यू में बताया कि यह भी सच है कि उन्हें अपना नाम बिलकुल भी अच्छा नहीं लगता था। एक दिन जब मेरी मां मेरी बहन की कुंडली दिखाने ज्योतिषी के पास गई तो उस हिंदू ज्योतिषी ने ही मुझे नाम बदलने की सलाह दी बस फिर क्या था मेरा नाम दिलीप कुमार से” ए.आर रहमान” पड़ गया।

आज रहमान के फिल्मो में अपने काम करने के अंदाज़ और स्टेज ने उन्हें एक नया उपनाम “मद्रास का शेर” दिया। उनके तमिल फैंस उन्हें ‘ईसाई पुयल’ के नाम से बुलाते हैं।



वैवाहिक जीवन :

a.r rahman with wife-stayreading

रहमान का विवाह “साईरा बानू” से हुआ एवं वर्तमान में रहमान के तीन बच्चे हैं, जिनका नाम खातिजा, रहीमा और अमीन है ।

रहमान का कार्यक्षेत्र :

rahman with prize-stayreading

वर्ष 1991 में रहमान ने अपना खुद का म्यूजिक रिकॉर्ड करना शुरु कर दिया । वर्ष 1992 में फिल्म डायरेक्टर “मणिरत्नम” ने इन्हे अपनी फिल्म रोजा में संगीत देने का न्यौता दिया। फिल्म हिट रही और पहली फिल्म में ही रहमान ने फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार जीता। इस पुरस्कार के साथ शुरू हुआ रहमान की जीत का सिलसिला जो अभी तक जारी है। रहमान के गानों की अब तक 200 करोड़ से भी अधिक रिकॉर्डिग बिक चुकी हैं।



आज यह विश्व के Top 10 Musical Composers में गिने जाते हैं।  उन्होंने तहजीब, बॉम्बे, दिल से, रंगीला, ताल, जींस, पुकार, फिजा, लगान, मंगल पांडे, स्वदेश, रंग दे बसंती, जोधा-अकबर, जाने तू या जाने ना, युवराज, स्लम डॉग मिलेनियर, गजनी जैसी फिल्मों में संगीत दिया है। उन्होंने देश की आजादी की 50 वीं वर्षगाँठ पर वर्ष 1995 में “वंदे मातरम्” एलबम बनाया, जो जबरदस्त हिट रहा।

rahman sing-stayreading

“भारत बाला” के निर्देशन में बनी एलबम “जन गण मन”, जिसमें भारतीय शास्त्रीय संगीत से जुड़ी कई नामी हस्तियों ने सहयोग दिया । उन्होंने स्वयं कई विज्ञापनों के जिंगल लिखे और उनका संगीत तैयार किया। उन्होंने जाने-माने कोरियोग्राफर प्रभुदेवा और शोभना के साथ मिलकर तमिल सिनेमा के डांसरों का ट्रुप भी बनाया, जिसने माइकल जैक्सन के साथ मिलकर स्टेज कार्यक्रम दिए।

 rahman with guitar-stayreading

रहमान ने फिल्म के आलावा कई अलग कार्य भी किये। रहमान ने वर्ष 2009 में भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और बराक ओबामा के लिए वाईट हाउस में Performance भी दिया था l वर्ष 2011 में रहमान ने अंग्रेजी संगीतकार मिक जैगर और प्रसिद्ध हॉलीवुड कलाकारों के साथ एक नये ग्रुप की घोषणा की ।

rahman-stayreading

आज रहमान को कर्नाटकी, पाश्चात्य शास्त्रीय संगीत, हिन्दुस्तानी संगीत में महारत हासिल है। इस कारण संगीत का कोई भी भाग उनसे दूर नहीं है। अगर अब तक रहमान के अवार्डों पर नजर डालें तो लगेगा। रहमान को अब तक सर्वाधिक 14 फिल्मफेयर अवार्ड, 11 फिल्मफेयर अवार्ड साउथ, चार राष्ट्रीय पुरस्कार, दो अकादमी, दो ग्रेमी अवार्ड और एक गोल्डन ग्लोब अवार्ड से सम्मानित हो चुके हैं ।

उनके Slumdog Millionaire फिल्म का गाना “Jai Ho” के लिए उन्हें ऑस्कर पुरस्कार से भी नवाजा गया और इन सब के साथ रहमान को साल 2000 में पद्मश्री और 2010 में पद्म विभूषण से भी नवाजा गया।



रहमान की खासियत :

rahman with music-stayreading

लेखक गुलजार के साथ रहमान ने हिंदी की कई फिल्मों में काम किया। गुलजार कहते हैं कि वे हिंदी सिनेमा में मील के पत्थर हैं , इस अकेले इंसान ने फिल्मों में Music की शक्ल ही बदल कर रख दी। रहमान में एक खासियत है कि ये दो अलग-अलग गानों से मिलती-जुलती धुन निकालकर नया गाना बना सकते हैं और सुनने वाले को यह Tune बिल्कुल नई लगेगी।

रहमान के बारे में रोचक बातें :-

1. एक बच्चे के तौर पर उन्हें दूरदर्शन वंडर्स बलून में उन्होंने एक ही समय में एक साथ 4 कीबोर्ड बजाने के लिये प्रसिद्ध थे।

2. रहमान एक कंप्यूटर इंजिनियर बनना चाहते थे।

3. नवम्बर 2013 में उन्हें सम्मान देते हुए मरखाम, ओंटारियो, कनाडा की कुछ जगहों के नाम को उनके नाम पर रखा गया था।



4. रहमान और उनके बेटे अमीन की जन्म तारीख एक भी एक ही है, 6 जनवरी।

5. Slumdog Millionaire को छोड़कर रहमान ने हॉलीवुड फिल्मो में भी काफी पहचान बनाई है।

6. लिम्का बुक ऑफ़ रिकॉर्ड 2007 में रहमान को “संगीत के क्षेत्र में सबसे प्रसिद्ध भारतीय” का अवार्ड दिया गया।

7. यही नहीं बल्कि वर्ष 2009 में टाइम पत्रिका ने रहमान को दुनिया में अपना प्रभाव छोड़ने वालो की सूची में भी शामिल किया था।

8. जो कीबोर्ड रहमान बचपन में चलाते थे वह आज चेन्नई में उनके स्टुडियो में रखा गया है।

9. अंतरराष्ट्रिय सफलता के बावजूद रहमान ने दक्षिण भारतीय फिल्मो में गाना कभी नही छोड़ा।

10. रहमान ने 4 राष्ट्रिय अवार्ड्स, 15 फिल्मफेयर अवार्ड्स और 14 दक्षिण फिल्मफेयर अवार्ड 2014 तक जीते है। यही नहीं बल्कि 138 पुरस्कारों के लिये उनका नामनिर्देशन किया गया था जिनमे से उन्होंने 117 पुरस्कार अपने नाम किये है।



11. एक ही साल में 2 ऑस्कर पुरस्कार जितने वाले रहमान पहले एशियाई है।

12. 2005 में, फिल्म आलोचनकर्ता रिचर्ड कोर्लिस ने रहमान के शुरुवा ती गाने को सभी समय के 10 बेस्ट गानों की लिस्ट में शामिल किया था।

13. एयरटेल की प्रसिद्ध टोन को भी, संगीतकार रहमान ने ही गाया है, जो दुनिया की सबसे ज्यादा डाउनलोड की जाने वाली टोन बनी, जिसे 150 मिलियन से भी ज्यादा लोगो ने डाउनलोड किया था।

14. GQ द्वारा उन्हें 2011 का सबसे प्रसिद्ध एवं ख्याति प्राप्त व्यक्ति का सम्मान दिया गया था।

15. 2009 में “आन का लगान” फिल्म का गानाAmazon.Com” के दुनिया के प्रसिद्ध 100 गानों की लिस्ट में 45 वे स्थान पर था।

पुरस्कार से सम्मानित :

rahman with music-stayreading

1. संगीत में अभूतपूर्व योगदान के लिए उन्हें वर्ष 1995 में मॉरीशस नेशनल अवॉर्ड्स, मलेशियन अवॉर्ड्स से सम्मानित किया गया ।

2. फर्स्ट वेस्ट एंड प्रोडक्शन के लिए “लारेंस ऑलीवर अवॉर्ड्स” से सम्मानित किया गया।

3. चार बार संगीत के लिए उन्हें राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता से सम्मानित किया गया ।



4. वर्ष 2000 में रहमान को पद्मश्री से सम्मानित किया गया ।

5. मध्यप्रदेश सरकार द्वारा लता मंगेशकर अवॉर्ड्स से सम्मानित ।

6. छः बार तमिलनाडु स्टेट फिल्म अवॉर्ड विजेता बने ।

7. 11 बार फिल्म फेयर और फिल्म फेयर साउथ अवॉर्ड के विजेता बने ।

8. विश्व संगीत में योगदान के लिए वर्ष 2006 में स्टेनफोर्ड यूनिवर्सिटी से सम्मानित।

9. वर्ष 2009 में फ़िल्म “Slum Dog Millionaire” के लिए गोल्डेन ग्लोब पुरस्कार से सम्मानित ।

10. ब्रिटिश भारतीय फिल्म स्लम डॉग मिलेनियर में उनके संगीत के लिए ऑस्कर पुरस्कार सम्मानित।


आज रहमान का नाम दुनिया के प्रसिद्ध संगीतकारों में गिने जाते हैं , उन्होंने अपनी कला को पूरी दुनिया के सामने लाया है। उनके Fans सिर्फ भारत में ही नही बल्कि पुरे विश्व में हैं। उनके द्वारा गाया जाने वाला गाना “जय हो” ने तो कई विश्व रिकार्ड्स भी तोड़ कर रख दिए। ऐसे महान संगीतकार का अवश्य सम्मान करना चाहिये।


आपको हमारी यह Post कैसी लगी. नीचे दिए गए Comment Box में जरूर लिखें. यदि आपको हमारी ये Post पसंद आए तो Please अपने Friends के साथ Share जरूर करें. और हाँ अगर आपने अब तक Free e -Mail Subscription activate नहीं किया है तो नयी पोस्ट ईमेल में प्राप्त करने के लिए Sign Up जरूर करें.

Happy Reading !

About the author

StayReading.com

StayReading.com का Main Motive ज्यादा से ज्यादा लोगों को प्रेरित करना और आगे बढ़ने में Help करना है। Inspirational और Motivational Quotes का अनमोल संग्रह है, जो आपको प्रेरित करेगा की आप अपने जीवन को नये अंदाज में देखें। हर Quotesऔर Stories का संग्रह आपके नज़रिए को व्यापक करती है और बताती है की पूर्ण इंसान बनने का मतलब क्या होता है। यह हमे सिखाती है की हम भी अपने जीवन में ज़्यदा प्रेम, साहस और करुणा कैसे हासिल कर सकते हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

Sponsors links

FREE Email Subscription