• पहली सेल (Sale) – Inspirational Story

    यह कहानी एक छोटे बच्चे की है जिसमे कुछ कर दिखने की लगन थी . आदर्श, शरद ऋतु (winter) में एक शनिवार की दोपहर Office से घर जल्दी गया ताकि वह कुछ जरूरी काम कर सके . जब वह काम कर रहा था , तो उसका 10 साल का बेटा ‘यश’ आया और उसने उसकी पैंट का पायचा खींचा . उसने कहा , डैडी  मेरे लिए एक साइनबोर्ड बना दें. आदर्श ने जवाब दिया, अभी नहीं यश, मैं अभी कुछ जरूरी काम कर रहा हूँ . लेकिन मुझे साइनबोर्ड बनना है, यश ने कहा .  आदर्श पूछा , क्यों ? उसने कहा – मैं पत्थर बेचना चाहता हूँ . पत्थरों में यश की गहरी दिलचस्पी थी . उसने बहुत से पथर इक्कठा कर रखे थे . और लोग उसके लिए दूर-दूर से पत्थर ले कर आते थे. गैरेज में पथरो की बास्केट रखी थी जिन्हें वह बार-बार धोता, उन्हें साफ़

    Continue Reading पहली सेल (Sale) – Inspirational Story